ततो युद्धपरिश्रान्तं समरे चिन्तया स्थितम्‌ । रावणं चाग्रतो दृष्ट्वा युद्धाय समुपस्थितम्‌ ॥1॥दैवतैश्च समागम्य द्रष्टुमभ्यागतो रणम्‌ । उपगम्याब्रवीद् राममगस्त्यो भगवांस्तदा ॥2॥राम राम महाबाहो श्रृणु गुह्मं सनातनम्‌ । येन सर्वानरीन्‌ वत्स समरे विजयिष्यसे ॥3॥आदित्यहृदयं पुण्यं सर्वशत्रुविनाशनम्‌ । जयावहं जपं नित्यमक्षयं परमं शिवम्‌ ॥4॥सर्वमंगलमागल्यं सर्वपापप्रणाशनम्‌ । चिन्ताशोकप्रशमनमायुर्वर्धनमुत्तमम्‌ ॥5॥रश्मिमन्तं समुद्यन्तं देवासुरनमस्कृतम्‌ । पुजयस्व विवस्वन्तं भास्करं भुवनेश्वरम्‌ ॥6॥सर्वदेवात्मको ह्येष तेजस्वी रश्मिभावन: । एष देवासुरगणांल्लोकान्‌ पाति गभस्तिभि: ॥7॥एष

मिथुन लग्न वालों के लिए यह वर्ष संघर्ष पूर्ण रहेगा राशि से 6,8,12 भाव में बैठे ग्रह आपको चिंता में डाल सकते हैं। राशि से 12वां राहू आपको बीते 15 सालों का फल देने वाला है , यदि आपने किसी का आहित किया था तो उसका सज़ा भोगने के लिए तैयार हो जाइये और यदि आप लोगों की सेवा में लगे थे

वृषभ लग्न वालों के लिए नए वर्ष की शुरुआत धन आगमन और प्रेम सम्बन्धों में प्रगाड़ता से शुरू होगी। लग्न में बैठे राहु आपको साहसी और मनस्वी बनाएँगे। सप्तम भाव में बैठे शुक्र और केतु आपके व्यक्तित्व को सुन्दर बनाएंगे जिसके वजह से विपरीत लिंग वालों को आपके प्रति ज़्यादा आकर्षण रेहने वाला है। यदि कुण्डली में शुक्र कमज़ोर अवस्था में हो

मेष लग्न वालों के लिए वर्ष 2021 का राशिफल आपकी भौतिक स्थिरता को लेकर प्रस्तुत रहेगा। नए वर्ष की शुरुआत आर्थिक गिरावट से रहेगी , शेयर – मार्केट या फाइनेंसियल कमी से होगी। 2020 में जिन लोगों से अपने वायदे किए थे और उन्हें आप पूरा नहीं कर पाए थे , उन बातों को आप ध्यान में रखेंगे और उन्हें पूरा करने

मेष लग्न में मंगल का बारह (12) भावो में फल योग. प्रथम भाव में मंगल का होना मेष लग्न की कुंडली बनाता है। मंगल की दृष्टि स्वगृही से 4 ,7 और 8 होता है। मेष लग्न के प्रत्येक भावों में मंगल कैसा परिणाम देंगे यह आपको क्रमशः पता चलेगा। प्रथम भाव में मंगल लग्नेश होने के कारण बहुत अच्छा प्रभाव देते है।

धन व व्यापर- व्यापारिक निर्णय लेना आपके लिए हितकर होगा। अपने क्षमता के अनुसार व्यापर में निवेश करें। लेन-देन में सावधानी बरतें धन हानि के लक्षण बन रहें हैं। रिश्तों व धन के बीच रिश्तों को महत्तव दें। कर्ज़ा देने से बचें ,धन फसने की आशंका है। वाहन व भूमि खरीदने के उत्तम योग हैं परन्तु बेचने में परेशानी का सामना करना

व्यापार व धन- धन संचय के योग प्राप्त होंगे इसलिए मौके को पहचानें। छोटे यात्रा करें ताकि पुराने ग्राहकों से सम्बन्ध सुधार सकें। नए व्यवसाय शुरू करने से पहले पूरी तैयारी कर लें। व्यवसाय में नई डील होने जा रही है। कोई आपसे ईर्ष्या कर सकता है अतः अपने कर्मचारियों से ना झगड़ें। पुराने कानूनी विवाद व्यवसाय से जुड़े अभी चालू रहेंगे।

व्यापार एवं धन – आर्थिक स्थिति पहले से बेहतर होगी। जोश में वृद्धि होने से आपमें उत्पादक क्षमता बढ़ेगी। नए अवसर की प्राप्ति होगी। कार्य के प्रति सजग रहें। व्यापर में नई डील ,किसी करीबी या दोस्त या दोस्त से आ रही समस्या दूर होगी। कानूनी मामलों में आपका पक्ष कमज़ोर पर सकता है। संपत्ति या खरीदारी में विवाद उतपत्ति के लक्षण।

मेष राशी / ARIES राशि चिन्ह – भेड़ भाग्यशाली दिन:मंगलवार भाग्यशाली संख्या:9, 18, 27, 36, 45, 54, 63, 72 भाग्यशाली रंग:सुर्ख लाल रंग और लाल भाग्यशाली स्टोन :हीरा, रूबी भाग्यशाली तावीज़:लौह धातु सकारात्मक गुण:उद्यमी, तीक्ष्ण, बहादुर, सक्रिय, साहसी ऊर्जावान | नकारात्मक गुण:अधीर, अविवेकी, स्वार्थी, ईर्ष्यालु, व्यर्थ घमंडी, अहंकारी, मोटे, क्रूर, स्वत्वबोधक, हिंसक लक्षण:उद्यमी, तीक्ष्ण, बहादुर, सक्रिय, साहसी, ऊर्जावान, अधीर, अविवेकी, स्वार्थी, ईर्ष्यालु,