काल पुरुष की कुंडली वृषभ लग्न की

वृषभ लग्न वालों के लिए नए वर्ष की शुरुआत धन आगमन और प्रेम सम्बन्धों में प्रगाड़ता से शुरू होगी। लग्न में बैठे राहु आपको साहसी और मनस्वी बनाएँगे। सप्तम भाव में बैठे शुक्र और केतु आपके व्यक्तित्व को सुन्दर बनाएंगे जिसके वजह से विपरीत लिंग वालों को आपके प्रति ज़्यादा आकर्षण रेहने वाला है। यदि कुण्डली में शुक्र कमज़ोर अवस्था में हो तो भी यह समय आपके हित में रहने वाला है। मंगल के घर में बैठे कुजवत केतु मंगल स्वरुप ही फल देंगे अतः शुक्र और मंगल का स्वरुप लिए केतु आपके व्यक्तित्व में तरक्की लाएगा। हालाँकि शुक्र मंगल के भाव में बैठे हैं लेकिन स्वराशि में दृष्टि आपको निखरेगी साथ ही जीवन साथी से मामूली सी नोकझोक रहेगी। spouse आपके धार्मिक प्रविर्ती के ओर रुझान रहेगी , यदि आप शुक्र से सम्बन्धित व्यापार करते हैं तो आपको व्यापार के लिए travel करना होगा। विदेश भाव में बैठे मंगल आपको पराक्रम तो देंगे लेकिन यात्रा करते वक्त आपको असहज पूर्ण यात्रा एवं मन लायक जगह नहीं मिलेगी रुकने या विश्राम करने के लिए। मंगल 4 ,7 और 8 वें दृष्टि से आपके पराक्रम में वृद्धि , शत्रु पर विजय और प्रेम सम्बन्ध में भावुक बनाएंगे। फरवरी के महीने से आपके आय एवं व्यापर में वृद्धि होगी और पुरे वर्ष इसका लाभ बना रहेगा।

अष्टम भाव में बुधादित्य योग आपके धन में वृद्धि करने वाला होगा कुल 80 दिनों बाद बुध भाग्य भाव में संचरण करेंगे तो आप अपने पराक्रम से भाग्य में वृद्धि करने वाले रहेंगे। 10 फरवरी से भाग्य भाव में 6 ग्रहों की युति और उनका दृष्टि सम्बन्ध आपको हर प्रकार से फायदा देने वाला रहेगा। शनि की 3,7, और 10वी दृष्टि से आपके बड़े भाई से सम्बन्ध ठीक होंगे लाभ के साधन बनेंगे , पराक्रम में वृद्धि एवं छोटे भाई बहन से प्रेम बढ़ेगा और दशम दृष्टि से ऋण से मुक्ति व शत्रु पे विजय प्राप्त करवाएगा। वहीं शुभग्रह गुरु की 5,7, और 9वीं दृष्टि से आपके व्यक्तित्व में वृद्धि , पराक्रम में वृद्धि और विद्यार्थी जनों के लिए परिश्रम के बाद सफलता का योग बन रहा है। अतः वर्ष 2021 आपके लिए बदलाव लेके आ रहा है जो आपके लिए और आपके परिवार के लिए परिवर्तन कारी परिणाम देगा। धन्यवाद।

https://www.facebook.com/astro.walon/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *